★ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 317



                                               

नयी कविता (पत्रिका)

नयी कविताओं के हिन्दी साहित्य में आधुनिक काल पढ़ने से कुछ बदलाव के साथ विकसित की हिन्दी कविता के नवीन धारा का प्रतिनिधित्व करता है कि एक अर्ध-वार्षिक पत्रिका गया था. यह करने के लिए नई कविता आंदोलन के मुखपत्र की तरह माना जाता है. इस प्रकाशन के १९५ ...

                                               

नयी कहानी

आजादी के बाद हिन्दी कहानी को नया संस्कार देने के लिए सुनने के लिए कहानी एक नई कहानी के नाम से नामित किया. नई कहानी का जन्म 1956 से माना जाता है. 1956 में भैरव प्रसाद गुप्त के संपादन में नवीनतम कहानी नाम की पत्रिका के एक विशेष अंक निकाला. इसी विशे ...

                                               

नाथ साहित्य

के पक्ष में माशा करने के लिए विपक्ष को नाथ पंथ में वृद्धि । के रूप में संख्या नौ है. इन क्षेत्रों में भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग में है. वे पक्ष द्वारा अपनाया punchcards की इस बात का खंडन किया है. स्त्री भोग का विरोध किया. वह भालू और varnasrama का ...

                                               

निदर्शना अलंकार

                                               

नियम अनियम दोष

कविता में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य के अनुसार मुलाकात के काव्य का मुख्य अर्थ का रस यह सामग्री का ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोष का व ...

                                               

निरुक्ति अलंकार

                                               

निशा निमंत्रण(हरिवंशराय बच्चन)

निशा निमंत्रण रिव्निया बच्चन के गीतों का एक संकलन है, जिसका प्रकाशन १९३८ मैं में हुआ. ये गीत १३-१३ पंक्तियों के हैं जो कि हिन्दी साहित्य की श्रेष्ठतम उपलब्धियों से उन्हें. इन गीतों और गठन की दृष्टि से अतुलनीय है । घोर अकेलेपन की स्थिति में लिखित ...

                                               

नेवाज (रीतिग्रंथकार कवि)

नए, महाराज छत्रसाल के एक समकालीन हिन्दी कवि है । वह पैदा हुआ था, ठाकुर ये अमेरिका, संवत् १७३९ में पैदा हुआ था. वे लिखा रहे हैं केवल शकुंतला नाटक देखने में आया. कुछ विविध छंद भी में यहाँ और वहाँ बिखरे हुए किताबें दिखाई दे रहा है, वे. कहते हैं कि म ...

                                               

न्यून पद दोष

कम कविता में एक तरह के शब्द का दोष है. परिभाषा:- आचार्य के अनुसार मुलाकात के काव्य का मुख्य अर्थ का रस यह सामग्री का ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- द ...

                                               

पजनेस

पृष्ठों के घोंसले अज्ञात है । इन सेंगर के अनुसार उनके opstina नहीं । १८७२वि. है कि कुछ लोगों से इन विवेकानंद माना जाता है. रामचंद्र शुक्ल के अनुसार, इन महत्वपूर्ण संवत् १९०० के आसपास माना जा सकता है । इन बुंदेलखंड के पन्ना राज्य में उत्पन्न थे. म ...

                                               

पर आँखें नहीं भरीं (काव्य)

                                               

परमानंद दास

माता-पिता वल्लभ संप्रदाय के आठ कवियों में एक कवि है, जो भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का अपने पदों में वर्णन किया गया है । वह पैदा हुआ था समय संवत् १६०६ । के लिए सभी कवियों में प्रमुख स्थान होने के माता-पिता का जन्म कन्नौज में एक गरीब कान्यक ...

                                               

परिनाम

                                               

परिनाम अलंकार

                                               

परिवृत्त अलंकार

                                               

परिसंख्या अलंकार

परिसंख्या अर्थालंकार का एक प्रकार है। एक ही वस्तु की अनेक स्थानों में स्थिति संभव होने पर भी अन्यत्र निषेध कर उसका एक स्थान में वर्णन करना। उदाहरण: राम के राज्य में वक्रता केवल सुन्दरियों के कटाक्ष में थी।

                                               

पर्याय अलंकार

                                               

पुनरुक्ति दोष

काव्य में एक प्रकार का शब्द का दोष परिभाषा:- आचार्य के अनुसार मुलाकात के काव्य का मुख्य अर्थ का रस यह सामग्री का ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोष क ...

                                               

पूर्वरूप अलंकार

                                               

प्रकाशित विरुद्ध दोष

कविता में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य के अनुसार मुलाकात के काव्य का मुख्य अर्थ का रस यह सामग्री का ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोष का व ...

                                               

प्रकृति पुरुष कालिदास (नाटक)

                                               

प्रतापनारायण मिश्र

प्रणय मिश्र धातु के प्रमुख लेखक, कवि और पत्रकार हैं. वह पेटेंट निर्मित एवं प्रेरित हिंदी लेखकों की सेना के महारथी, उनके कला के अनुगामी और आधुनिक हिंदी भाषा और साहित्य के निकट में उनके सहयोगी थे. पेटेंट पर उनकी अनन्य श्रद्धा थी, वह खुद को उनके चेल ...

                                               

प्रतिमान (पत्रिका)

प्रतिमान विकासशील समाज अध्ययन पीठ की ओर से प्रकाशित होने वाली सामाजिक विज्ञान और मानविकी की पूर्व-समीक्षित छमाही पत्रिका है. इसका पूरा नाम प्रतिमान समाज की संस्कृति है । इसके मुख्य संपादक अभय कुमार दुबे और संपादक आदित्य निगम, रविकांत और राकेश पां ...

                                               

प्रतिवस्तूपमा अलंकार

                                               

प्रतिषेध अलंकार

                                               

प्रतीप अलंकार

                                               

प्रलय-सृजन (काव्य)

                                               

प्रसिद्ध दोष

कविता में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य के अनुसार मुलाकात के काव्य का मुख्य अर्थ का रस यह सामग्री का ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोष का व ...

                                               

प्रहर्षन अलंकार

                                               

प्रियप्रवास

Piras, आसानी से "उसे" के अंग्रेजी काव्य की रचना की है । उसके जी Caverta "Piras" से मिला । इसकी वास्तविक में 1909 से 1913 है. इस महाकाव्य खड़ी बोली का पहला महाकाव्य है

                                               

प्रेम का फल

                                               

बचनेश

पैदा होने में 1932 में, फर्रुखाबाद में हुआ था. आपकी प्रतिभा बहुमुखी थी । यही कारण है कि आप गद्य और पद्य दोनों में ही सफलता हासिल की । प्रमुख काव्य ग्रंथों में एक नीति - कुंडल मज़ा, ठिठोलिया, नवरत्न, पैसे, हो, सदी, भारती भूषण, धर्म ध्वज, धर्म पताक ...

                                               

बाणभट्ट की आत्‍मकथा

चाहते हैं की आत्मकथा आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी रचित एक ऐतिहासिक अंग्रेजी उपन्यास है । वहाँ तीन प्रमुख पात्र हैं - चाहते हैं, पैटर्न और nipponica. इस पुस्तक में पहली बार प्रकाशन वर्ष 1946 में, राजकमल प्रकाशन किया था । इस अभिनव प्रकाशन 1 जुलाई 2 ...

                                               

बिहारी लाल(रीतिग्रंथकार कवि)

                                               

बिहारी सतसई

कहते हैं कि दोहरी है, के रूप में तीर. देखने में छोटे फिट, गड़बड़ सकल शरीर । चमगादड़ लालच लाल की, मुरली धरी है । तो वह हँसा से कह पोते चले गए. कहत है, और, यह मिलता है । पूरा चलाने में SLO है, में एक ही सों बात । मेरे पिता - बाधा हरो राधा सहयोगी So ...

                                               

बुंदेलखंड का काव्य

छत्रसाल के समय में जहां बुन्देलखण्ड को "आर जमुना जनसंपर्क नर्मदा, इत के साथ-साथ उत्पाद टोंस" से जाना जाता है, जबकि भौगोलिक रूप से जीवन, संस्कृति और भाषा के संदर्भ से Bundala क्षत्रियों की अच्छी तरह से जोड़ा गया है । बंडल इस इलाके की सबसे अधिक व्य ...

                                               

बूँद और समुद्र

बूँद और समुद्र साहित्य अकादमी पुरस्काऔर सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार से सम्मानित जाने-माने हिंदी उपन्यासकार Nagar सिविल सर्वोत्कृष्ट उपन्यास माना जाता है. इस उपन्यास में लखनऊ केंद्र में रखकर अपने देश के मध्यम वर्ग के नागरिकों और उनके गुण-दोष पूर्ण ...

                                               

बेनी प्रवीन(रीतिग्रंथकार कवि)

बेनी प्रवीन भाषा Riegner कवि हैं. बेनी प्रवीन का वास्तविक नाम benden वाजपेयी गया था. इन कर रहे हैं शायद लखनऊ के निवासी थे. उनके सामाजिक संरचना नेस्टेड है. दिगए विवरण में जाना जाता है कि इसका निर्माण किया गया था १८१७ ई. में navlist में प्रशंसा की ...

                                               

बेनी बंदीजन(रीतिग्रंथकार कवि)

Beni benden के महत्वपूर्ण हिंदी कवि । Beni benden रायबरेली जिले का सबसे अच्छा नामक स्थान के निवासी और अवध के वज़ीर महाराज Teatre के दरबारी कवि थे । इन सेंगर की राय में, इन सं. १८९२ वि. पर्याप्त वर्ष की आयु से मरे थे. Teatre प्रकाश या alnashiri, औ ...

                                               

बोधा

उपयोगकर्ताओं कर सकते हैं अंग्रेजी साहित्य के वास्तविक कवि है । उन्हें इस ड्रेसिंग के रस की कविताओं के लिए जाना जाता है. वर्तमान में उत्तर प्रदेश में बांदा जिले के राजापुर गाँव में जन्मे कवि उपयोगकर्ताओं कर सकते हैं का पूरा नाम निकायों गया था. वर् ...

                                               

ब्रजभाषा साहित्य

किस्मों विक्रम की सदी से लेकर सदी में भारत बने, मुख्य साहित्यिक भाषा और के रूप में अच्छी तरह से सभी के रूप में भारत की साहित्यिक भाषा थी । विभिन्न स्थानीय भाषाई समन्वय के साथ भारत के व्यापक रूप में इस्तेमाल किया जा करने के लिए अंग्रेजी के रूप में ...

                                               

भक्त कवियों की सूची

कबीर. (Kabir) त्यागराज. (Thyagaraja) कोई नहीं. (None) रविदास छापे. (Ravidas raid) नरसिंह हो सकता है. मीरा बाई. (Mira Bai) इस प्रकार सेंट. (Thus St) सूरदास. (Surdas) तुलसीदास. (Tulsidas) रहीम. (Rahim) और. Gabi. तुकाराम. (Tukaram) चैतन्य महाप्रभु. ...

                                               

भक्ति काल

भक्ति काल में क्या है भक्ति की अवधि में अपने एक महत्वपूर्ण और महत्वपूर्ण स्थान रखता है. पर करने के बाद करने के लिए आया था इस युग पूर्व-मध्ययुगीन काल भी कहा जाता है. जिसका समय संवत् 1325ई से संवत् 1650ई ऊपर माना जाता है. यह हिंदी साहित्य का सर्वश् ...

                                               

भगत धन्ना

में भगत एक फकीर कवि और जिसका तीन भजन आदि । ग्रंथों में मौजूद हैं. एक वैष्णव भक्त थे.में मूल रूप से राजस्थान के टोंक जिले में होने के कारण तहसील कला की तुलना में गांवों में जाट परिवार में पैदा हुए थे. आज मैं इन जगह पर मंदिऔर गुरुद्वारा बनाया huuu ...

                                               

भारत दुर्दशा

भारत दुर्दशा नाटक की रचना, आदि । में वर्तमान herschede द्वारा किया गया था. यह शॉर्टकट के प्रतीकों के माध्यम से भारत की तत्कालीन स्थिति का चित्रण किया जाता है. वे भारतीयों से भारत की दुर्दशा पर रोना और फिर की दुर्दशा के अंत में प्रयास करने का आह्व ...

                                               

भारत भारती (काव्यकृति)

भारत भारती, मथिएसोन शेफ गुप्ते के प्रसिद्ध गुप्त है, जो १९१२-१३ में लिखा गया था. इस स्वदेश प्रेम को दर्शाते हुए वर्तमान और भावी दुर्दशा से उबरने के लिए समाधान खोजने का एक सफल प्रयोग है । भारत के लोगों संक्षिप्त के दर्शन काव्य प्रस्तुति "भारत-भारत ...

                                               

भारतेन्दु युग

हिन्दी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल के पहले चरण में "वर्तमान युग" की संज्ञा प्रदान की है और वर्तमान herschede हिन्दी साहित्य के आधुनिक युग का प्रतिनिधि माना जाता है. वर्तमान पानी के प्रभावशाली था, वे संपादक और आयोजक है, वह है, वे वापस चला गया ...

                                               

भाविक अलंकार

है अलंकार चन्द्रोदय के अनुसार कविता में प्रयुक्त एक अलंकार है. साहित्य दर्पण के अनुसार करने के लिए पारित कर दिया या भविष्य में अद्भुत पदार्थ के प्रत्यक्ष इसी तरह के विवरण के लिए अलंकार कहते हैं ।

                                               

भिखारीदास

रिचर्ड्स महत्वपूर्ण के श्रेष्ठ हिन्दी कवि है । कवि और प्रोफेसर रिचर्ड्स का जन्म प्रतापगढ़ के निकट तांग में एक जगह कहा जाता है, मैं 1721 में था. उनकी मौत बिहार में आरा के निकट भभुआ में एक जगह बुलाया हुई. रिचर्ड्स द्वारा लिखित सात कुछ प्रामाणिक था ...

                                               

भूपति राजा गुरुदत्त सिंह(रीतिग्रंथकार कवि)

गुरुदेव सिंह भूपति अमेठी के राजा थे । इन Bandol शैली सूर्यवंशी कुशवाहा क्षत्रिय थे. वहाँ रहे हैं एक राजा Himmelblau सिंह स्वयं कवि और कवियों के ऐशट्रे थे. इस वंश के लगभग सभी राजा विद्वान थे और कर्तव्य का यथोचित सम्मान करने में रुचि रखते थे. हिंदी ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →