पिछला

★ दायभाग - मामा (Dāyabhāga)



                                     

★ दायभाग

बात Simulant एक प्राचीन हिंदू शास्त्र नहीं है जो प्रचार बंगाल में. डेटा शाब्दिक अर्थ है, पैतृक धन का विभाग, अर्थात्, पिता, कर रहे हैं या संबंधित संपत्ति के बेटों में से शुद्ध या रिश्तेदारों के कुछ भागों में व्यवस्था करने के लिए. विरासत या उत्तराधिकार के लिए मील के वारिस या के बंटवारे में कायदा कानून है ।

                                     

1. परिचय

कर हिन्दू धर्मशास्त्र के प्रधान विषयों की है. मनु, प्रतिनिधि आदि । यादों में इसकी विस्तृत व्यवस्था है । Grantors और टिप्पणीकारों के मतभेद से पैतृक भोजन के संबंध में अलग-अलग स्थानों में अलग-अलग व्यवस्थाएँ प्रचलित हैं. प्रधानमंत्री की ओर से दो हैं और मेटा डेटा । मेट्रो एजेंटों स्मृति में विनीज़ जो टीका, के लिए अनुकूल व्यवस्था पंजाब, काशी, मिथिला आदि । से लेकर दक्षिण में कन्याकुमारी तक पार्टी है. डेटा Gamutan का एक ग्रंथ है जिसका प्रचार किया गया था देश में.

पहली बात पर विचार करने के लिए है कि cottonbelt में किसी भी प्राणी के लिए अलग से एक विभाग के प्रमुख के पीछे करने के लिए या पहले से बनी हुई है । मेट्रो के अनुसार, विभाग केवल जब अलग या एसिटाइल शीर्षक होता है, विभाग के पहले सभी cottonbelt प्रत्येक पर मुस्कान प्राणियों के सामान्य शीर्षक बनी हुई है । बात यह विभाग पहले भी अव्यक्त रूप में एक अलग शीर्षक है, जो मानता विभाग पर होना करने के लिए चाहते हैं होता है । मेटा पूर्वजों की संपत्ति में पिता और पुत्र के प्रबंधक रखती है तो पुत्र पिता के रहते हैं और जब चाहे पैतृक संपत्ति में हिस्सा विभाजित कर सकते हैं और पिता पुत्रों की सहमति के बिना पैतृक संपत्ति के किसी भी भाग का दान, विक्रय आदि नहीं कर सकते । पिता के मरने पर पुत्र को पैतृक संपत्ति के अधिकारी है वह हिस्सेदार के रूप में एक बचाव है, उत्तराधिकारी के रूप में नहीं. मेट्रो के पुत्र के उत्तराधिकार, केवल पिता के कब्जे के कारण संपत्ति में रखती है । डेटा के नजरिए सात मृत, पतित या संन्यासी होने के कारण बाद के उत्तराधिकारियों के शीर्षक की उत्पत्ति हो जाती है. अनुसार उसे करने के लिए, जब तक पिता जीवित है तो पैतृक संपत्ति पर अपने पूरे अधिकार के लिए, वह जो चाहे सो कर सकते हैं. बेटों के लिए शीर्षक के मूल पिता के मरने के लिए, आदि एक ही है । हालांकि एजेंटों के इस श्लोक में के लिए Piemonte आबनूस पूर्वावलोकन वा. महारानी स्यात् मजबूत तेजी यह भविष्य honcho पिता, पुत्और समान अधिकार स्पष्ट रूप से कहा गया है, हालांकि जीमूतवाहनने इस श्लोक से खींच तानकर इस अर्थ में यह निष्कर्ष निकाला है कि बेटों के शीर्षक के मूल उनके विवेकानंद से नहीं चलने के पिता मार्शल है.

                                     

2. उत्तराधिकारी आदेश. (Successor order)

और मेटा डेटा के अनुसार जिस क्रम में उत्तराधिकारी हैं, नीचे दिगए के रूप में इस प्रकार है:

आदि, आदि ।

रिवर्स के आदेश, जो दिया गया है उसे देखने से पता चल जाएगा कि मेट्रो के शीर्षक और डेटा के पिता. एजेंटों का श्लोक है:

पत्नी दुहितरश्यौव पितरौ भ्रातरस्तथा। तत्सुता गोत्रजा बंधुः शिष्यः सब्रह्मचारिणः।।

इस श्लोक का यह वचन ले मेट्रो का कहना है कि माता-पिता के साथ इस समास में इस शब्द का सबसे पहले आता है और माता-पिता चिंतित हैं, यह भी अधिक अंतरंग है, यह मां के शीर्षक पहली बार है । Simulan कहते हैं कि यह शब्दों में, केवल पिता की प्रधानता होने से पहले काम के पिता का शीर्षक है. मिथिला, काशी और महाराष्ट्र राज्य में, माँ के शीर्षक से पहले और बंगाल, तमिलनाडु और गुजरात में पिता के शीर्षक माना जाता है । मेट्रो डायपर संबंध ही साधन मानती है और डेटा सूचकांक की कार्रवाई की है । मेटा पिंड शब्द का अर्थ शरीर की गति से सात पीढ़ियों के भीतर एक ही कुल के प्राणी ग्रहण है, डेटा पर अपने ही पिंड के साथ जुड़े अर्थ के द्वारा पोता, नाना, मामा आदि भी लेता है.

                                     

3. मेटा और डेटा के बीच मुख्य अन्तर. (Meta and data between the main expanse)

मेटा और डेटा के बीच मुख्य बातें भेद नीचे दिखाया गया के रूप में इस प्रकार है:

१ मेट्रो के अनुसार पैतृक पूर्वजों के धन पर ठेस सामान्य शीर्षक के उनके जन्म के समय ही किया जा करने के लिए उत्पन्न होता है पर डेटा की रक्षा के सात पद-उत्तराधिकारियों के शीर्षक की उत्पत्ति हो जाती है.

२ मेट्रो अनुसार विभाग के साथ साझा करने के पहले प्रत्येक सम्मिलित प्राणी का सामान्य शीर्षक के पूरी संपत्ति है, चाहे वह अंश साझा करने के कारण नहीं है अव्यक्त या करने के लिए अनिश्चित हो जाएगा.

३ मेट्रो के अनुसार किसी भी हिस्सेदार आवंटन करने के लिए संपत्ति के अपने खुद के काम के लिए बैटरी या ऋणदाता नहीं कर सकता पर डेटा के अनुसार अपने अनिश्चित अंश के प्रत्यावर्तन से पहले भी इसे बेचा जा सकता है.

४ मेट्रो के अनुसार जो धन कई प्राणियों के आम संपत्ति है, किसी भी देश या हिस्से में किसी भी स्वामी की एक बानगी है के शीर्षक प्लेसमेंट विभाग के वितरण है. आंकड़ों के अनुसार विभाग के लिए अलग-अलग शीर्षक के पकवान मात्र है.

५ मेट्रो के अनुसार बेटा पिता से पैतृक संपत्ति का हिस्सा देने के लिए कह सकता है, पर इस डेटा के अनुसार, बेटा यह सही नहीं है ।

६ मेट्रो के अनुसार स्त्री अपने मृत पति के केवल उत्तराधिकारिणी हो सकता है जब उसके पति के भाई आदि katunin अलग हो । पर डेटा, चाहे पति हो या अलग शामिल हैं, स्त्री की उत्तराधिकारिणी है.

७ डेटा के अनुसार कन्या अगर एक विधवा, चाहता था या निर्यात, तो उत्तराधिकारिणी नहीं किया जा सकता. मेट्रो करते प्रतिबंध नहीं है. एजेंटों, नारद आदि., के अनुसार पैतृक धन का विभाग इन अवसरों पर होना चाहिए - पिता जब चाहे तब, मां की रजोनिवृत्ति और पिता के VisaNet, पिता के मृत, पतित या संन्यासी होने के लिए पर.



                                     
  • पर ल खन व ल व ब ग ल क सबस पहल व यक त य म स ह व प र भद रक ल क ब र ह मण थ इन ह न द यभ ग न मक ग र थ क रचन क द यभ ग ज म तव हन र ज
  • रघ नन दन द व र रच त एक स स क त ग रन थ ह इसम ह न द ओ क उत तर ध क र प रक र य क व व चन ह सम भवत रघ नन दन द यभ ग क रचय त ज म तव हन क श ष य थ
  • ह रह ह भ रत म ह द व ध क म त क षर तथ द यभ ग न मक द प रस द ध स द ध त ह इनम स द यभ ग व ध ब ग ल म तथ म त क षर प ज ब क अत र क त श ष
  • प रय गग रन थ आद ल ख ब ग य न बन ध क र ज म तव हन व शत ब द रच त ब ख य त द य भ ग न मक ग रन थ क ट क रचन क स म त श स त र म प ण ड त य क क रण समग र
  • क न न क अव चल स प न ह ज सक समय तर पर ज म तव हन न म त र ब ग ल क ल ए द यभ ग न यम एव व ज ञ न श वर न श ष भ रत क ल ए म त क षर न यम म वर ग क त कर
  • स त र प सय गन म तद व व दपदम च यत व भ ग ऽर थस य प त र यस य प त र र यत र प रकल प यत द यभ ग इत प र क त तद व व दपद ब ध सहस क र यत कर म यत क ञ च द बलदर प त
  • स श न त - व र त करन आय ह श र क ष ण न द र य धन क आग प ण डव क द यभ ग द न क प रस त व रख क रव - प रम ख भ ष म, द र ण, व द र और ध तर ष ट न भ
                                     
  • ह कई व षय अन क ब र तथ ब न क स क रम - व यवस थ क द हर य गय ह यथ द यभ ग क न यम क प रत प दन प र यश च त - प रकरण क मध य ह अनध य य क चर च
  • ह न द धर मक श क लमण म श र शर म धर मश स त रशब दक ष बदर न र यण प ड य द यभ ग प रक श क व चस पत व व दच न त मण प एन पट ट भ र म श स त र स स क रव ज ञ न
  • ज म त व हन न 13व और 15व शत ब द क ब च म द यभ ग क रचन क ज सम सभ स म त य क ब त श म ल ह द यभ ग क न न क वल ब ग ल म चलत ह और उसक स थ ह
  • व व ह क स ब ध क ब र म भ न यम - क यद क चर च म लत ह न रद स म त म द यभ ग य न प त क स पत त क उत तर ध क र और व भ जन क चर च भ म लत ह इसम
  • क म र न घटमप र प त क रचन न य य लय क स थ पन व व ह स ब ध न यम, द यभ ग शत र ओ पर चढ ई क तर क क ल ब द स ध य क भ द, व य हरचन इत य द
  • स व क त व र स क त न श र ण य ज स ग त रज सप ड, सम न दक और ब ध तथ द यभ ग द व र स व क त व र स क त न श र ण य ज स स प ड, सक ल य और ब ध अब नह
  • द ड अ. 11 - 13 श च अ. 14 स त र धर म अ. 18 प र यश च त त अ. 18 - 27 द यभ ग अ. 27, 28 एव प त र क प रक र अ. 28 क व व चन ह इस धर मस त र क

यूजर्स ने सर्च भी किया:

दयभग, दायभाग, मामा. दायभाग,

...

शब्दकोश

अनुवाद

Motion For Consideration Of The Hindu Succession Amendment.

Q95. सूची I को सूची II से सुमेलित कीजिए और निम्न कूट से सही उत्तर का चयन कीजिए – सूची I सूची II लेखक विधि सम्बन्धित ग्रन्थ a जीमूतवाहन i मनुटीका b गोविन्दराज ii स्मृति चन्द्रिका c विज्ञानेश्वर iii दायभाग d देवण्णभट्ट iv. न्यूज क्लिपिंग्स् रूढ़िवादिता और संवैधानिक. A ऑप्टिकल आउटपुट युक्ति B इलेक्ट्रॉनिक निवेश युक्ति C ऑप्टिकल निवेश युक्ति D यांत्रिक निवेश युक्ति. Click To Show Hide. उत्तर – C. 57. दायभाग ग्रंथ का लेखक कौन था A माधव ​B जीमूत वाहन C लक्ष्मीधर D इनमें से कोई नहीं.


प्रमुख पुस्तकों के लेखक – Gyan singh.

अब संक्षेप से दायभागसम्बन्धी विचार किया जाता है। इस विषय में नारदस्मृति का वचन है कि पिता की वस्तु का पुत्र लोग जो बांट करते हैं, उसको विद्वान् लोगों ने व्यवहार की व्यवस्था का हेतु होने से दायभाग कहा है।१ दायशब्द एक प्रकार. प्रमुख भारतीय लेखक एवं उनकी पुस्तके padhobeta. Marathi translation of कनिष्ठ दायभाग. मराठी Marathi meaning of ​कनिष्ठ दायभाग. atimogeniture कनिष्ठ दायभाग knisshtth daaybhaag​. दायभाग के लेखक कौन हैं? जीमूतवाहन उत्तराखंड. राष्ट्रीय चरित्र निर्माण की आवश्यकता राष्ट्र चिन्तन. पं० चन्द्रभानु आर्य. आर्य मान्यताओं के पुनः संस्थापक दयानन्द सरस्वती. स्वामी श्रद्धानन्द के जीवन का एक विस्मृत प्रसंग. सम्पादक सहदेव समर्पित. दायभाग और मनु का विधान ​मनुस्मृति. प्राचीन भारतीय लेखक और उनकी पुस्तकें GK Hindi. महत्वपूर्ण पुस्तकें और उनके लेखक 1. पंचतंत्र विष्णु शर्मा 2. प्रेमवाटिका रसखान 3. मृच्छकटिकम् शूद्रक 4. कामसूत्र् वात्स्यायन 5. दायभाग जीमूतवाहन 6. नेचुरल हिस्द्री प्लिनी 7. दशकुमारचरितम् दण्डी 8. अवंती सुन्दरी.


V k kB.

2 दायभाग पद्धति दायभाग पद्धति बंगाल तथा आसाम में प्रचलित हैं और मिताक्षरा पद्धति भारत के अन्य प्रांतों में। मिताक्षरा विधि में संपत्ति का न्यागमन उत्तरजीविता व उत्तराधिकार से होता है और दायभाग में उत्तराधिकार से ।. Page 1 पाठ मुगलकालीन प्रशासन तथा जनजीवन आइए. 1 माधव, 2 जीमूतवाहन, 3 लक्ष्मीधर, 4 इनमें सें कोई नही.





उत्तराखंड लेखपाल पटवारी परीक्षा 2016 हल.

Know दायभाग meaning in hindi and translation in hindi. दायभाग word meaning with their sentences, usage, synonyms, antonyms, narrower meaning and related word meaning. अनटाइटल्ड Shodhganga. मूल्य Rs. 0 पृष्ठ 166 साइज 7 MB लेखक रचियता चंद्रशेखर शुक्ल Chandra Shekhar Shukl हिन्दुओ की जायदाद का उत्तराधिकार हिन्दुओ का भारतीय कानूनन उत्तराधिकार पुस्तक पीडीऍफ़ डाउनलोड करें, ऑनलाइन पढ़ें, Reviews पढ़ें Hinduon Ka Bharatiya. दायभाग meaning in Hindi, Meaning and Translation of दायभाग. दायभाग. पुं. पैतृक संबंधी की संपत्ति का उत्तराधिकारियों में विभाजन. ಉತ್ತರಾಧಿಕಾರಿಗಳಲ್ಲಿ ಹಂಚಿಕೆಯಾದ ಪಿತ್ರಾರ್ಜಿತ ಸ್ವತ್ತು. division of property among heirs. दायभाग. पुं. विरासत की मिल्कियत का एक भाग। ವಾರಸು ಸ್ವತ್ತಿನ ಒಂದು ಭಾಗ. a portion.


स्वत्व Meaning in Hindi स्वत्व का हिंदी में मतलब Svatv.

मिताक्षरा एवं दायभाग Mitakshara and Dayabhag – यह दोनों संप्रदाय हिंदू संयुक्त परिवार के उत्तराधिकार के नियम से संबंधित हैं दायभाग का नियम मुख्यतः बंगाल एवं असम में हैं, जबकि भारत के अन्य भागों में मिताक्षरा नियमों का. हिंदू विवाह Hindu Marriage हिंदू विवाह के नियम एवं. ग्रन्थ में किया है। महाभारत में धर्मशास्त्र सम्बन्धी बातें दी गई हैं। यथा. अभिषेक, अराजक, अहिंसा, आश्रमधर्म, आचार आपदधर्म, उपवास, गोस्तुति. तीर्थ, दण्डस्तुति दान, दायभाग पुत्र प्रायश्चित, ब्राह्मणवृत्ति, भक्ष्याभक्ष्य राजनीति. LLB 2nd Semester Hindu Law Chapter 3 Notes Study Material. और संपत्ति पर अधिकार कै लिए मिताक्षरा लिखी गई। उसमें यह प्रयास किया गया कि सभी हिंदू एक पद्धति से अपने वैवाहिक संस्कारों का संचालन करें। यह सफल नहीं हुआ और फिर दायभाग स्कूल को मान्यता मिली जो ख़ास कर बंगाल में लागू है।.


Jansatta chaupal about common civil code Jansatta.

पहला है दायभाग जो बंगाल असम में लागू है। दूसरा मिताक्षरा, है, जो शेष भारत में मान्य है। इसके अनुसाहर व्यक्ति को जन्म से ही पैतृक संपत्ति में हिस्सा हासिल है। क्या था 2005 का संशोधन मिताक्षराविधि द्वारा शासित संयुक्त. अनटाइटल्ड IGNCA. जीमूतवाहन द्वारा पुस्तक. अनटाइटल्ड. मनुष्य का वैयक्तिक गठन तीन संकुलों से मिलकर हुआ है: 1. आनुवंशिक परंपरा से प्राप्त दायभाग. 2. वातावरणीय कारकों ​द्वारा उद्भूत दायभाग. बाल संरक्षण अायाेग ने जारी की हिदायत जागरूकता मुहिम में न ले जाएं स्कूली बच्चे Jalandhar.


यत्र नारी पूज्यंते तत्र Quotes & Writings by Gautam.

साल 1948 में हिंदू कोड बिल का प्रस्ताव पेश करते हुए भीमराव आंबेडकर ने इस विधेयक के मुख्य मुद्दे के रूप में उत्तराधिकार को रेखांकित किया था. हिंदू उत्तराधिकार कानून दो परंपराओं से आया था, जिन्हें मिताक्षरा और दायभाग के page: 1. दायभाग जीमूतवाहनकृत एक प्राचीन हिन्दू धर्मग्रंथ. लेपाक्षी मंदिर. ANSWER कंदरिया महादेव मंदिर. 12.हिन्दू विधि की एक प्रसिद्ध पुस्तक दायभाग के रचयिता थे. विज्ञानेश्वर. मनु. जीमूतवाहन. इनमें से कोई नहीं. ANSWER जीमूतवाहन. 13.गीत गोविन्द के रचनाकार जयदेव किसकी सभा को अलंकृत करते थे?. समान नागरिक संहिता का सबसे ज़्यादा विरोध सवर्ण. Daybhag दायभाग का अर्थ अंग्रेजी में जानें. Rajput Period general knowledge Questions and Answers in Hindi. दायभाग, मिताक्षरा, विद्याधन, स्त्रीधन, शौर्यधन तथा. ऋणादान के सन्दर्भ में. बृहद् संयुक्त परिवारों की उपस्थिति के संकेत वैदिक काल से ही प्राप्त होने लगते. हैं। विविध प्रकार के पारिवारिक संबंधों की गणना से यह ज्ञात होता है कि वैदिक.


वंशावली में बेटी का भी नाम पैतृक संपत्ति में.

हिंदू लॉ के लिए दो महत्वूपर्ण स्कूल मिताक्षरा और दायभाग हैं। मिताक्षरा 11 वीं सदी में विज्ञानेश्वर द्वारा और दायभाग जीमूतवाहन द्वारा लिखा गया था। दोनों में महिलाओं के भरण पोषण की बात है और महिला की पुरुष पर निर्भरता. Ssc भाग 3 100000Question. दायभाग में उल्लेख किया जाता है कि पिता की मृत्यु के पश्चात् सम्पत्ति. का उत्तराधिकार माँ को प्राप्त हो जाता है। जायजाद सम्बन्धी पिता के. अधिकारों को प्राप्त करने के विषय में विष्णु ने यह घोषणा की है. यदि. पिता की मृत्यु हो गयी है तो. Taxwil Free Study Income tax Company registration Firm. सौतिया बांट, करेवा प्रथा हो या मिताक्षरा व दायभाग की विधि व्यवस्था जैसी कई प्रथाएं स्त्रियों को सम्पत्ति के अधिकार से वंचित करने के लिए बनाई गई। ऐसी स्थितियों के बावजूद आजादी की लड़ाई और उसके बाद भी शराबबंदी व चिपको Следующая Войти Настройки. 036 Subject History Previous Year Questions for NET JRF PGT. अर्थात् सृष्टि के प्रारभ में स्वायभुव मनु ने यह विधान किया है कि धर्म अर्थात् कानून के अनुसार दायभाग पैतृक सपत्ति में पुत्र पुत्री का समान अधिकार होता है। इसी प्रकार मातृधन में केवल कन्याओं का अधिकार विहित करके मनु ने.


जल्लीकट्टू विरोध हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक.

दायभाग के लेखक कौन हैं? जीमूतवाहन भवभुति जयदेव मुल्कराज. Shabdkosh English to Hindi Dictionary Hindi To English. सारिपुत्र प्रकरण, सूत्रालंकार नागार्जुन प्रज्ञापारमिता, मध्यमिका सूत्र कारिका जीमूत वाहन दायभाग विज्ञानेश्वर मिताक्षरा जयदेव गीतगोविन्द बाणभट्ट हर्षचरित, कादम्बरी हर्षवर्धन नागानन्द, प्रियदर्शिका, रत्नावली.





Vidyapati Dharmshastra IGNCA.

बंगाल क्षेत्र में भी दायभाग को मान्यता प्राप्त है। बंगाल क्षेत्र में भी उन विषयों पर मिताक्षरा मान्य है जिन पर दायभाग मूक है। उल्लेखनीय बात यह है कि इन दोनों शाखाओं के प्रवतर्क अपने विरोधी नियमों और सिद्धान्तों को एक ही. बताइए IAS की फुल फॉर्म क्या है? फाडू न्यूज़. नारद दायभाग 28 30 का कथन है कि जब विधवा पुत्रहीन होती है. उसके पति के सम्बन्धी उसके भरण पोषण, देख रेख, सम्पत्ति की रक्षा करने वाले हैं. जब कोई सम्बन्धी एवं पति का सपिण्ड रक्षक न हो तो पिता का कुल रक्षक होता है। विधाता ने स्त्री को आश्रित. दायभाग का विचार पण्डित भीमसेन शर्मा Aryamantavya. There are no meanings for दायभाग in our English Hindi Dictionary, please suggest if you know the meaning Click Here. उत्तराखंड लेखपाल पटवारी समूह ग हिंदी साल्व्ड. 3. हिन्दू विधि की शाखाएँ, अधिवास, प्रवास एवं. धर्म परिवर्तन. मिताक्षरा शाखा. दायभाग शाखा. मिताक्षरा एवं दायभाग में अन्तर. अधिवास एवं प्रवास. धर्म परिवर्तन. फैक्टम वेलेट का सिद्धान्त. 4. विवाह प्रकृति, आवश्यक शर्ते एवं प्रभाव. विवाह की.


Ancient India Religion Facts And Science.

मिताक्षरा की रचना विज्ञानेश्वर ने की थी तो दायभाग की रचना किसने की? A लक्ष्मीधर B विश्वरूप C जीमूतवाहन D मेघातिथि. 0 0. Address. Mail:d@ Adress:RAOPURA, SHAHPURA, JAIPUR RAJ Phone: 91 8058784789. Play Store. Subscribe. Want to be. PDF फाइल. दायभाग प्रभति धर्मशास्त्र के प्रधान ग्रन्थों के काल का निर्देश है । दूसरे. परिशिष्ट में पारिभाषिक शब्दों की अंग्रेजी हिन्दी सूची दी गयी है। इस पुस्तक. में इस बात का पूरा प्रयत्न किया गया है कि समाज शास्त्र तथा कानून के. पारिभाषिक शब्द.


कनिष्ठ दायभाग K.

जवाब दिल्ली में सवाल बताइये हिंदू विधि की प्रसिद्ध पुस्तक दायभाग की रचना किसने की थी? जवाब जीमूतवाहन सवाल. वसीयत सम्बन्धी हिन्दू विधि. कनिष्ठ दायभाग in Assamese অসমীয়া कनिष्ठ दायभाग in Bengali বাংলা कनिष्ठ दायभाग in Bodo बड़ो कनिष्ठ दायभाग in Dogri डोगरी कनिष्ठ दायभाग in English कनिष्ठ दायभाग in Gujarati ગુજરાતી कनिष्ठ दायभाग in Hindi हिन्दी कनिष्ठ दायभाग in Konkani कोंकणी.


...
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →