पिछला

★ वैश्विक हिन्दी सम्मेलन - प्रमुख शिक्षा समिति ..



वैश्विक हिन्दी सम्मेलन
                                     

★ वैश्विक हिन्दी सम्मेलन

वैश्विक हिंदी सम्मेलन में हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के उपयोग में वृद्धि प्रदान करते हैं और प्रचार-प्रसार के लिए गठित एक पंजीकृत गैर सरकारी संगठन है. इस मंच के माध्यम से हम प्रयास कर रहे हैं होना करने के लिए लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ लाइन में भारत के लोगों के सभी के बारे में जानकारी, सेवाओं और सुविधाओं के निर्माण, यानी, राज्यों की आधिकारिक भाषा है और भारत की आधिकारिक भाषा

हिन्दी में प्राप्त कर रहे हैं. दुनिया के स्तर पर हिंदी शिक्षण की सुविधा उपलब्ध है. ई-गवर्नेंस और डिजिटल इंडिया, आदि., में हिंदी और भारतीय भाषाओं का उपयोग किया जा करने के लिए. वैश्विक हिंदी सम्मेलन का प्रयास है कि भारत में शिक्षा और रोजगार भारतीयों भाषाओं के माध्यम से उपलब्ध है और अंग्रेजी और भारतीय भाषाओं के लिए भाषा-प्रौद्योगिकी के विकास और प्रचार-प्रसाकर रहे हैं. स्कूलों में विद्यार्थियों को कंप्यूटर-मोबाइल और इस प्रकार के नवीनतम उपकरणों पर हिंदी और भारतीय भाषाओं में कार्य की शिक्षा दी जानी चाहिए, इतना है कि इंटरनेट और सोशल मीडिया पर हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में महत्वपूर्ण स्थान मिले और हिन्दी एवं अन्य भारतीय भाषाओं के साहित्य के साथ विश्व स्तर पर प्रसार करने के लिए हो सकता है. हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में विज्ञान है. व्यापार करने के लिए व्यापार, और सार्वजनिक जानकारी और बड़े पैमाने पर फैल गया है कि एक विदेशी भाषा बाधा से मुक्त होने के लिए देश की अपनी भाषा के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में विकास की ऊंचाइयों को छू सकते हैं.

                                     

1. हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के प्रसार के लिए अभियान. (Hindi and other Indian languages for dissemination of the campaign)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के उपयोग में वृद्धि और उनके प्रचार-प्रसार अभियान के लिए गठित एक पंजीकृत संस्था है, जिसका प्रयास है कि लोकतांत्रिक मूल्यों और संविधान की भावना में भारत के लोगों के लिए सरकारी/गैर सूचनाएं, सुविधाओं, सेवाओं और अवसर के सृजन यानी भारत के संघ की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी और अमेरिका के एसएनएस में प्राप्त कर रहे हैं.

वैश्विक हिंदी सम्मेलन का प्रयास है कि भारत के ई-गवर्नेंस और डिजिटल इंडिया, आदि., महत्वाकांक्षी योजनाओं में हिन्दी और भारतीय भाषाओं में प्रमुखता से शामिल हो. सभी वेबसाइट, ऑनलाइन सुविधाओं, कंप्यूटर सिस्टम, iPhone.टी. समाधान आदि । में संघ और राज्य की आधिकारिक भाषा प्रमुखता से रखा जा करने के लिए. देश में शिक्षा और रोजगार में भारतीय भाषाओं के माध्यम से उपलब्ध है, और हिंदी सहित सभी भारतीय भाषाओं के लिए उपलब्ध भाषा-प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भी प्रसार करने के लिए हो सकता है. स्कूलों/कॉलेजों में छात्रों को एक कंप्यूटर-मोबाइल आदि. नवीनतम उपकरणों पर हिंदी और भारतीय भाषाओं में काम का अनिवार्य प्रशिक्षण दिया जा करने के लिए इतना है कि इंटरनेट और सोशल मीडिया पर हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में महत्वपूर्ण स्थान मिल सकता है, और इन उपलब्ध ज्ञान-विज्ञान की दुनिया में प्रसार करने के लिए हो सकता है.

वैश्विक हिंदी सम्मेलन का मानना है कि ज्ञान-विज्ञान, शिक्षा-रोजगार, व्यापार करने के लिए व्यापाऔर सार्वजनिक सूचना और जन संचार आदि क्षेत्रों भारतीय भाषाओं में का उपयोग कर, उनके प्रसार संभव है । विदेशी भाषा के बंधन से मुक्त कर ही देश की अपनी भाषा के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में विकास की ऊंचाइयों को छूने के लिए कर सकते हैं, करने के लिए इसी तरह भारतीय संस्कृति की भी रक्षा हो सकती है । इसलिए वैश्विक हिंदी सम्मेलन में देश और दुनिया में भारतीय भाषाओं के प्रसार में शामिल लोगों और भारत-भाषा प्रेमियों एकजुट हो जाओ, इस काम के लिए जागरूकता अभियान और तैयार है, जो करने के लिए लगातार प्रयास करते हैं. देश-विदेश के भारतीय-भाषा प्रेमी इस अभियान से जुड़ सकते हैं. इसके लिए कोई शुल्क आदि नहीं है ।

                                     

2. वैश्विक हिंदी सम्मेलन सोशल मीडिया समूह. (Global English Conference social media group)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन सामाजिक मीडिया समूहों में से 12.500 से अधिक लोग जुड़े हुए हैं । वैश्विक हिंदी सम्मेलन गूगल समूह, हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के प्रयोग और प्रसार की संभवतः दुनिया के सबसे बड़े और सक्रिय ई-मेल समूह है, जो देश-विदेश के करीब 8500 से सदस्य हैं । इनमें हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के कई वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार, भाषा, सरकार, शिक्षाविद्, Rajbhandari, वैज्ञानिक, भाषा-प्रेमी, भाषा-प्रौद्योगिकीविद्, छात्र, और अलग क्षेत्रों में जहां लोगों से जुड़े रहे हैं । अपने Facebook समूह पर किसी भी तरह के करीब 4000 लोगों को. इसके अलावा, गूगल, ट्विटर और WhatsApp app आदि । भी संस्था पर दरवाजे पर भारतीय भाषाओं के प्रयोग और प्रसार का अभियान चलाया जाता है ।

इस मंच के माध्यम से हिंदी और भारतीय भाषाओं के समर्थकों के बीच समन्वय और सहयोग बनाने के लिए भारतीय भाषाओं से संबंधित जानकारी, प्रयास, प्रौद्योगिकी, आदि । जानकारी प्रदान करने के लिए और करने के लिए विचारों का आदान-प्रदान और सदस्यों द्वारा हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के उपयोग से संबंधित सुझाव, विचार, शिकायत, मांग, नोटिस आदि । खुद को प्रस्तुत करता है. इस क्षेत्र में देश और विदेश में-एक महत्वपूर्ण योगदान करने के लिए परिचय और काम भी प्रस्तुत किया है.

                                     

3. वैश्विक ई-संगोष्ठी. (Global e-seminar)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन गूगल समूह द्वारा एक अभिनव पहल करते हुए हिंदी व भारतीय भाषाओं के प्रचार से संबंधित विषयों पर समय-समय पर वैश्विक ई-संगोष्ठियों का भी आयोजन किया जाता है जिसमें श्रोताओं के स्थान पर हजारों की ई-प्रतिभागियों को खुद के समय और सुविधा के वैश्विक ई-सेमिनार में भाग लेने, और श्रृंखला है, के रूप में कई लिंक में विद्वान प्रतिभागियों-अपने विचार पेश कर रहे हैं.

                                     

4. देवनागरी लिपि और अन्य भारतीय लिपियों का प्रसार. (Devanagari script and other Indian scripts spread)

सामाजिक मीडिया के माध्यम से देवनागरी लिपि और भारतीय लिपियों में कार्य करने के लिए, न केवल अनुरोध पर किया जाता है, लेकिन यह भी ई-मेल के माध्यम से कंप्यूटर और मोबाइल आदि. पर हिंदी में कार्य की जानकारी भी प्रदान की है और कॉलेजों और सामुदायिक समूहों के माध्यम से प्रशिक्षण भी दिया गया है । एक परिणाम के रूप में, लोगों के लाखों लोगों की है जो कल तक भारतीय भाषाओं में कंप्यूटर, मोबाइल आदि । पर रोमन लिपि में लिखने के लिए इस्तेमाल किया अब देवनागरी और अपनी भाषा में स्क्रिप्ट लेखन शुरू किया ।

                                     

5.1. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. मुंबई सम्मेलन - जून 2012. (Mumbai conference - June 2012)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन संस्था के अस्तित्व में आने के पूर्व ही इसकी आधारशिला के रूप में अगस्त 2012 में मुंबई के उपक्रम नगर राजभाषा कार्यान्वयन समिति के सहयोग से मुंबई सम्मेलन के माध्यम से वैश्विक हिंदी सम्मेलन के आकार शुरू कर दिया. इस सम्मेलन में, न्याय चन्द्रशेखर नाटकीय, जाने-माने फिल्मकार राजकुमार बड़जात्या सहित शिक्षा–साहित्य, ol, सिनेमा, मीडिया, न्यायपालिका, आदि. विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े लोगों ने भाग लिया था.

                                     

5.2. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी सम्मेलन -10 सितंबर 2014. (Global English conference -10 September 2014)

संस्था के केंद्रीय बैंक द्वारा भारत के साथ सहयोग में हिन्दुस्तानी प्रचार सभा के साथ 10 सितंबर को, 2014, Vileparle, मुंबई में वैश्विक हिंदी सम्मेलन: 2014 आयोजित किया गया था, जिसमें गोवा की माननीया राज्यपाल और साहित्यकार श्रीमती मृदुला सिन्हा, मुख्य सूचना आयुक्त - श्रीमती लीना बनाया और महाराष्ट्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री सूर्य प्रताप गुप्ता सहित देश-विदेश के 400 से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया था. इस अवसर पर दक्षिण अफ्रीका के हिंदी शिक्षा संघ अध्यक्ष श्रीमती मैं विचरना में वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान, यह भी शर्मा तिथि करने के लिए वैश्विक सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान प्रवीण जैन हिन्दी सक्रिय सेवा सम्मान और वरिष्ठ साहित्यकार डॉ सुधाकर मिश्र आजीवन हिन्दी साहित्य सेवा सम्मान प्रदान किया गया था ।

                                     

5.3. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी जनवरी 10, 2015. (Global English seminar January 10, 2015)

विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर वैश्विक हिंदी संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें मॉरीशस के वरिष्ठ साहित्यकार श्री राज ईरान के प्रमुख वक्ता थे उन्हें वैश्विक हिंदी साहित्य सारथी सम्मान भी प्रदान किया गया. संगोष्ठी में डॉ रमाकांत गुप्ता, साहित्यकार डॉ सुधाकर मिश्र धातु और जवाहर runat सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे ।

                                     

5.4. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, जनवरी 18, 2015. (Global English seminar, January 18, 2015)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन द्वारा shakuntal और शिवानी साहित्य मंच के साथ मिलकर वैश्विक हिंदी संगोष्ठी और काव्य संगोष्ठी का आयोजन किया गया । कार्यक्रम में कनाडा के साहित्यकार प्रो.सरन घई करने के लिए वैश्विक हिन्दी साहित्य सम्मान से विभूषित किया गया. मुंबई उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री राजन कोचर और जाने-माने फिल्मकार राजकुमार बड़जात्या भी मौजूद थे ।

                                     

5.5. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 19 सितम्बर, 2015. (Global English seminar, September 19, 2015)

मुंबई के सोमैया कॉलेज के साथ मिलकर आयोजित संगोष्ठी में नीदरलैंड के साहित्यकार प्रो.प्रकाशित किया गया था अवस्थी वैश्विक हिन्दी साहित्य सम्मान से विभूषित किया गया. संगोष्ठी में लेखक माणिक मुंडे, एस.एन.डी.टी. विश्वविद्यालय के पूर्व निदेशक प्रो. माधुरी छेड़ा, सूरीनाम में रहने से भगवान, एक ही कॉलेज की खरीद और ऑपरेटर डॉ सतीश पांडे, डॉ एम. एल. गुप्ता और डॉ कामिनी गुप्ता, विचार के लिए प्रस्तुत किया है ।

                                     

5.6. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 20 सितंबर, 2016. (Global English seminar, 20 September, 2016)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन द्वारा मुंबई रेल विकास निगम के साथ चर्चगेट स्टेशन परिसर में मुंबई भारत में और विदेशों में हिन्दी विषय पर वैश्विक संगोष्ठी आयोजित की गई जिसमें में दक्षिण अफ्रीका के क्वाजुलू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर और हिंदी शिक्षा संघ के अध्यक्ष प्रो. उषा शुक्ला मुख्य अतिथि थे. उन्हें वैश्विक हिंदी साहित्य सम्मान दिया गया था किया गया. कार्यक्रम में राकेश पांडे, माणिक मुंडे, विजय जैन, अमरजीत मिश्रा, आदि. विचार रखे.

                                     

5.7. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 09 जनवरी, 2016. (Global English seminar, 09 January, 2016)

मुंबई में वैश्विक हिंदी सम्मेलन, के. C. कॉलेज और सत्याग्रह संस्था द्वारा प्रवासी भारतीय और हिंदी विषय पर अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया । संगोष्ठी में ब्रिटेन रचनाकार लिंग शर्मा, माणिक मुंडे, प्रो.माधुरी छेड़ा, श्रीमती देवी गुस्से में, Dr.Citalopram दुबे, लेखक, श्रीमती शील निगम आदि. विचारों से प्रस्तुत किया है । इस अवसर पर लेखनी के संपादक में श्रीमती शैल अग्रवाल को वैश्विक हिंदी साहित्य सम्मान दिया गया था किया गया.

                                     

5.8. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 05 अक्टूबर 2017. (Global English seminar, 05 October 2017)

बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ अंग्रेजी में वैश्विक परिदृश्य विषय पर आयोजित सेमिनार दक्षिण अफ्रीका में हिंदी शिक्षा संघ के अध्यक्ष प्रोफेसर उषा शुक्ला, मॉरीशस के, साहित्यकार शासन ईरान, प्रवासी संसार के संपादक राकेश पांडेय. Gagnant संपादक हरीश नवल, बैंक ऑफ बड़ौदा राजभाषा प्रमुख जवाहर ध्वजवाहाक, और डॉ एम. एल. गुप्ता आदित्य आदि । विचार रखे.

                                     

5.9. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 3 जून 2018 0. (Global English seminar, 3 June 2018 0)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन और मुंबई रेल विकास निगम के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित संगोष्ठी के मुख्य अतिथि मॉरीशस के जाने-माने साहित्यकार रामदेव के विश्लेषण के वैश्विक हिन्दी साहित्य सम्मान से विभूषित किया गया. सेमिनार में मुंबई विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो. राज्याभिषेक उपाध्याय, एम.आर.वी.सी. वित्तीय सलाहकार नरेन्द्र वर्मा जी सेंट अतिरिक्त आयुक्त श्रीमती Manpreet आर्य, महान दिमाग फाउंडेशन के अध्यक्ष, दिनेश गुप्ता, सहित कई विद्वानों ने विचार रखे.

                                     

5.10. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. भाषा-प्रौद्योगिकी के प्रशिक्षण कार्यक्रम, 3 जून 2018 0. (Language-Technology Training Program, June 3 2018 0)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन और एम. एम. पी. शाह कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में कॉलेज के विद्यार्थियों को मोबाइल-कंप्यूटर उपकरणों आदि. पर देवनागरी लिपि सहित विभिन्न भारतीय लिपियों में काम का प्रशिक्षण दिया गया था.

                                     

5.11. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 23 जून 2019. (Global English seminar, 23 June 2019)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन, और श्रीमती एम.एम.P शाह ने महिला कॉलेज के कॉमर्स और आर्ट्स के संयुक्त तत्वावधान में मातृ भाषा दिवस पर आयोजित संगोष्ठी में बैंक ऑफ बड़ौदा के महाप्रबंधक डॉ जवाहर runat वैश्विक हिंदी सम्मेलन द्वारा डॉ कामिनी स्मृति वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान दिया गया था किया गया. मातृभाषा: जन अधिकाऔर जन-विकास विषय पर आयोजित इस संगोष्ठी के मुख्य अतिथि पूर्व सूचना आयुक्त श्री शैलेश गांधी.

                                     

5.12. वैश्विक सम्मेलन, सेमिनाऔर प्रशिक्षण कार्यक्रम. वैश्विक हिंदी संगोष्ठी, 11 जनवरी, 2020. (Global English seminar, 11 January, 2020)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन, महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी और.सी. कॉलेज मुंबई के संयुक्त तत्वावधान में की.सी. कॉलेज मुंबई के सभागार में हिंदी और भारतीय भाषाओं के समन्वय के विषय पर वैश्विक हिंदी संगोष्ठी का आयोजन किया गया । संगोष्ठी के मुख्य अतिथि महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के वाइस-चांसलर प्रो. रजनीश कुमार शुक्ला कर रहे थे । मुख्य अतिथि के रूप में महाराष्ट्र राज्य मंत्री का दर्जा प्राप्त श्री अमरजीत मिश्और विशिष्ट अतिथि और सम्मानित मूर्ति के रूप में श्री कृष्ण कुमार की.पु.से. और वरिष्ठ परमाणु वैज्ञानिक डॉ. विजय भार्गव थे । इन वैश्विक हिन्दी सेवा सम्मान से विभूषित किया गया. अध्यक्षता - डॉ. शीतला प्रसाद दुबे, महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी के कार्यक्रम के संचालन के वैश्विक हिंदी सम्मेलन के निदेशक डॉ. एम. एल गुप्ता आदित्य ने किया और आभार प्रदर्शन संस्था के संयोजक डॉ सुस्मिता भट्टाचार्य ने किया है ।



                                     

6. अंग्रेजी वायसराय श्रृंखला. (The English viceroy series)

इस श्रृंखला में विदेशों में रहने भाषा-शिक्षण साहित्य, या किसी भी अन्य प्रकार के हिंदी को बढ़ावा देने में लगे महानुभावों और उनके कार्यों का परिचय दिया जाता है, जो संस्था के सामाजिक मीडिया समूहों के माध्यम से देश और दुनिया तक पहुँचता है. इस श्रृंखला के तहत अब तक निम्नलिखित का परिचय दिया गया है:-

  • प्रो. उषा शुक्ला दक्षिण अफ्रीका.
  • डॉ कविता टीका ब्रिटेन.
  • नीलू गुप्ता, संयुक्त राज्य अमेरिका.
  • डॉ प्रकाश पांडे जर्मनी.
  • प्रो. प्रकाशित किया गया था अवस्थी नीदरलैंड.
  • प्रो. शिवकुमार सिंह पुर्तगाल.
  • दरअसल भोला इंटरनेट मॉरीशस.
  • सुश्री स्नेह ठाकुर कनाडा.
भारत-भाषा प्रहरी श्रृंखला:

इस श्रृंखला में हिंदी और अन्य भारतीय भाषा या भाषाओं का उपयोग करने के लिए और के प्रसार के लिए एक सेनानी के रूप में कार्यरत महानुभाव और उनके कार्यों का परिचय दिया जाता है, जो संस्था के सामाजिक मीडिया समूहों के माध्यम से देश और दुनिया तक पहुँचता है. इस श्रृंखला का उद्देश्य भारतीय भाषाओं के लिए काम कर रहे हैं बात करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं. इसके तहत, अब तक निम्नलिखित का परिचय दिया गया है:-

  • बैंड शर्मा की तारीख.
  • दबाव डालना पाठक. (Pressure pour reader)
  • प्रो. जोगा सिंह काम.
  • डॉ. विजय कुमार मल्होत्रा.
  • Praveen Jain.
  • डॉ परमानन्द पांचाल. (Dr. Parmanand Panchal)
  • डॉ ठीक गुप्त. (Dr. Fine secret)
  • डॉ थे, वैदिक. (Dr. were, Vedic)
  • अतुल कोठारी. (Atul Kothari)
  • डॉ कमल किशोर गोयनका.
  • प्रो. कृष्ण कुमार गोस्वामी.


                                     

6.1. अंग्रेजी वायसराय श्रृंखला. पथ के साथी

मनोज अभी भी अध्यक्ष,हिन्दी शिक्षा संघ, दक्षिण अफ्रीका,बैंड शर्मा दिनांक: स्थानीयकरण,माइक्रोसॉफ्ट,राकेश Pandanda,प्रवासी दुनिया,दिल्ली,डॉ अमरनाथ कुछ बचा मंच, कोलकाता,Nimalka रोगजनकों परिषद इंदौर, प्रभु सामाजिक इंदौर,डॉ.आशीष प्रतिस्पर्धी हिन्दी साहित्य परिषद,जवाहर karunavtaram,बैंक ऑफ बड़ौदा,सुश्री विजयलक्ष्मी संत,प्रो.जोगा सिंह वायरल,डॉ विजय भार्गव भारतीय भाषा को राष्ट्रीय परिषद की स्थापना,बिजय देखभाल जैन, भारतीय भाषाओं और रिश्तों,मुंबई,Pleshette eBay हैदराबाद,रवि राम भोपाल,प्रेमचंद अग्रवाल हिंदी के प्रचार-प्रसार समिति,अंबाला,के.एस वेंकटचलम कलेक्टरों janmani,Dr.आर वी सिंह, ए. CF.Q.सिडबी,लखनऊ,अजय जेनेट Indian.Com,इंदौर,gorshenina,योगेन्द्र प्रसाद जोशी हिंदी ब्लॉग,मनोरमा Micromuse,अजय उबला हुआ

                                     

7.1. अधिकारी, संरक्षक, सलाहकार एवं समन्वयक. मार्गदर्शक बोर्ड. (Guiding board)

  • डॉ थे वैदिक वरिष्ठ पत्रकार.
  • राहुल देव, वरिष्ठ ट्रैक प्रभारी वरिष्ठ साहित्यकार.
  • श्रीमती लीना Mehendale, पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त, गोवा.
  • अतुल कोठारी, राष्ट्रीय सचिव,शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास.
                                     

7.2. अधिकारी, संरक्षक, सलाहकार एवं समन्वयक. सलाहकार बोर्ड. (Advisory board)

  • खान गोस्वामी निदेशक, विश्व नागरी विज्ञान संस्थान.
  • श्रीमती माधुरी छेड़ा पूर्व निदेशक,एस.एन.डी.टी.स्कूल, मुंबई.
  • ठीक गुप्त के सदस्य के.एस.वजह.सोल.व् याप् त समिति.
  • डॉ. शीतला प्रसाद दुबे अध्यक्ष, महाराष्ट्र राज्य हिंदी साहित्य अकादमी.
                                     

7.3. अधिकारी, संरक्षक, सलाहकार एवं समन्वयक. कार्य-समिति. (Task-Committee)

निदेशक: डॉ. एम. एल. गुप्ता आदित्य

अध्यक्ष: राजेश्वर सिंह

सचिव: उत्कर्ष अग्रवाल

कोषाध्यक्ष: सुश्री मंजरी गुप्ता

संयोजक: डॉ. सुस्मिता भट्टाचार्य

सदस्य: श्रीमती उषा बंसल, संजय सिंह, श्रीमती विधि जैन, कृष्ण मोहन मिश्रा, धीरेंद्र सिंह, सबसे अनूप बंसल, निर्मल कुमार, परिपक्व

वैश्विक समन्वयक: प्रो. उषा शुक्ल के हिंदी शिक्षा संघ, दक्षिण अफ्रीका, पोस्ट अवस्थी वैश्विक अंग्रेजी स्थापना,नीदरलैंड, रामदेव: विश्लेषण के वरिष्ठ साहित्यकार, मॉरीशस, डॉ स्नेह ठाकुर संपादक: वसुधा,कनाडा, राज ईरान के वरिष्ठ साहित्यकार, मॉरीशस, रोहित कुमार हैप्पी संपादक: भारतीय दर्शन,न्यूजीलैंड

                                     

7.4. अधिकारी, संरक्षक, सलाहकार एवं समन्वयक. समन्वयक. (Coordinator)

प्रो.मंगला रानी पटना के प्रो. अमरनाथ कोट श्रीमती शील निगम मुंबई आफताब आलम मुंबई संपत देवी Murarka हैदराबाद अखिलेश श्रीवास्तव लखनऊ अरुण शर्मा होशंगाबाद विनोद इंजन गुवाहाटी प्रभु देसाई गोवा राहुल के नासिक.

                                     

7.5. अधिकारी, संरक्षक, सलाहकार एवं समन्वयक. डॉ कामिनी स्मृति वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान. (Dr. Kamini memory Global English service honor)

वैश्विक हिंदी सम्मेलन की स्थापना में डॉ श्रीमती कामिनी गुप्ता की महत्वपूर्ण भूमिका थी. पर्दे के पीछे रहकर उन्होंने वैश्विक हिंदी सम्मेलन को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण और सार्थक भूमिका है । डॉ कामिनी गुप्ता,14 मार्च 2018, एक कैंसर की असाध्य बीमारी से लड़ते-लड़ते मौत के आगोश में समा गईं. वे भारत सरकार के गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग के अंतर्गत हिंदी शिक्षण योजना, मुंबई में 29 साल जारी रखा, एक व्याख्याता के रूप में काम में बने रहे. अपने प्रभावी शिक्षण पद्धति के चलते केंद्रीय कार्यालयों के प्रशिक्षु अधिकारी/कर्मचारी में वे काफी लोकप्रिय हैं वहाँ. वे एक अच्छे लेखक हैं, कवयित्री और प्रभावी वक्ता थे । Ol गाइड के वे सह-लेखक थीं. देश के प्रतिष्ठित अखबारों और पत्रिकाओं में उनके अनेक लेख प्रकाशित किगए थे. वे आकाशवाणी और दूरदर्शन के कई कार्यक्रमों में भी भाग लेने के लिए अफगानिस्तान में. चार्ल्स डिकेंस के बाल-कहानियों का अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद उसका प्रमुख काम करता है.उन्होंने हिन्दी में एम.एक. और पीएच.डी. के अतिरिक्त B. Lib, B. Ed, अनुवाद में स्नातकोत्तर डिप्लोमा हिंदी में डिप्लोमा भी किया है. दूसरे हाथ पर, वे एक बहुत ही कुशल गृहिणी थे. पांच साल पहले कैंसर की पुष्टि होने के बावजूद वे घरेलू कार्यों के साथ अतिरिक्त सामाजिक कार्यों में भी योगदान करने के लिए उनके उत्साह और वैश्विक हिंदी सम्मेलन की व्यवस्था के प्रभारी दायित्वों और भी स्थान पर रहीं । पिछली बार जब डॉक्टरों ने हार स्वीकार की, Dr. कामिनी गुप्ता ने कहा कि अपनी बीमारी से हार नहीं मानी । इस तरह के वायरस मेहनती, कर्तव्यपरायण और संघर्षशील महिलाओं के दिवंगत डॉ कामिनी गुप्ता, वैश्विक हिंदी सम्मेलन के दिल धनुष है.

अत: उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए वैश्विक हिंदी सम्मेलन द्वारा निर्णय लिया गया था कि हिंदी और भारतीय भाषाओं का प्रसार करने के लिए दी जानी करने के लिए है कि सम्मान के तहत अब डॉ कामिनी स्मृति वैश्विक हिंदी सेवा सम्मान प्रदान किया जाएगा.



                                     
  • ह आ श खर सम म लन क म ख य म द द व श व क आर थ क स थ त म स ध र और व त त य स स थ न म स ध र क थ द व त य सम म लन - ब र ज ल त त य सम म लन - च न च त र: Dmitry
  • सहय ग स ह द क प रच र - प रस र क ल ए व श ष ट य जन ओ क पहल करन ज सम व द व न व श षज ञ आद क आम त र त क य ज ए सक ब ल ह न द जगत ह न द जगत व ज ञ न
  • स र न म, न प ल और स य क त अरब अम र त क जनत भ ह न द ब लत ह फरवर म अब ध ब म ह न द क न य य लय क त सर भ ष क र प म म न यत म ल
  • प रच र सम त वर ध क प रय स स 1975 म न गप र म ह ए पहल व श व ह न द सम म लन म स व क त एक महत वप र ण प रस त व क अन र प 1997 म भ रत क स सद म
  • क व श ष महत व ह ह द मह स गर क स मर क महत व भ कम महत वप र ण नह ह ह द मह स गर पर प रभ व न य त रण क ब न क ई द श व श व क शक त क दर ज प र प त
  • द त ह अन तर र ष ट र य ह न द उत सव ज स क र यक रम स ह न द क व श व क स तर पर प रत ष ठ त करन ह न द क ह न द ज ञ न प रत य ग त ज स आय जन
  • भ रत भ ष - प रहर - ड परम न द प च ल व श व क ह द सम म लन भ ष क प रहर भ ष क समर प त ड परम न द प च ल ह न द और भ रत य भ ष ओ क व र द ध नय षड य त र
  • ब र क स द श क ब च सहय ग बढ न व श व क फ इन शल स फ ट न ट क मजब त करन आद प रथम ब र क स श खर सम म लन व श व क आर थ क स कट क द र न ह आ थ ब र ज ल
  • स तव ब र क स श खर सम म लन अथव ब र क स श खर सम म लन 7th BRICS summit ब र क स क सदस य सम प रभ र ष ट र क सरक र अथव र ष ट रप रम ख क स तव
  • ह न द क व श व क य त र 2. क र य लय न ह द क स वर प 3. ह द क प रय ग म व यवह र क समस य ए और सम ध न 4. र ष ट र य एकत और ह द 5. ह न द क
  • स थ न छ ड न पड और प रव ण त गड य न उनक स थ न ल य आज व ह प क ज व श व क ख य त ह उसम अश क स घल क य गद न सर व ध क ह अश क स घल पर षद क
                                     
  • 28 - 30 म र च 1942 क ट क य म एक सम म लन ब ल य ज सम इ ड यन इ ड प ड स ल ग क स थ पन क न र णय ल य गय सम म लन म उन ह न भ रत य स वत त रत क
  • उद य न कर द य गय ह ह द स ह त य छ य व द य ग ह न द कव आध न क ह द पद य क इत ह स आध न क ह द गद य क इत ह स न सर ग म व श व क च तन क अन भ त
  • प स तक भ प रक श त क ह इसक अत र क त पर षद द व र कई र ष ट र य स तर क सम म लन भ आय ज त क य ह न गर स गम, त र म स क प रध न स प दक : ड परम नन द
  • स स थ ओ क स य क त र ष ट र सम म लन ह ई और यह स र 40 उपस थ त द श न स य क त र ष ट र य स व ध पर हस त क षर क य प ल ड इस सम म लन म उपस थ त त नह थ
  • न व म त र स तर य सम म लन म ल क न यह सम म लन एक अत र क त द न क ल ए चलत ह ए द सम बर क सम प त ह आ इसक उद द श य व श व क व य प र ब ध ओ क सरल
  • द य इसम एक व श व क म द र बन न क ब त कह गई थ 4 स त बर, 2009 म इसक ब ठक ल दन म ह ई थ इसम यह तय ह आ क स थ र व श व क अर थव यवस थ क
  • ह त ह ज 20 सम म लन म प रत न ध क त र पर 19 द श क प रत न ध श म ल ह त ह और एक य र प य स घ श म ल ह त ह न त ओ क श खर सम म लन म 19 द श
  • अन व द त तर स प दन क प रस त व रख फ र य त र क अन व द पर अतरर ष ट र य सम म लन ह न लग पत रपत र क ए न कल ओर र स स अ ग र ज म अन व द ह न लग
  • भ रत य क र क ट क तकन क र प स नह एक आध क र क प रत न ध व ल र ड ह र स, सम म लन क अध यक ष द व र भ ग ल न क अन मत द गई ब ठक क नत ज एमस स क भ रत
  • भ रत य द वस सम म लन म म ख य वक त क र प म भ रत आम त र त क य गय थ ज व र ष क प रव स भ रत य द वस सम म लन भ रत य क ल ए एक व श व क म च क ह स स
                                     
  • व श व क ग लम ज सम म लन 8 म र च: प र द य ग क व अभ य त र क छ त र क ग ध यन य व प र द य ग क नवप रवर तन GYTI प रस क र और व श व क ग लम ज सम म लन
  • व कस क म द द स स ब ध त उद द श य क ल कर चलत ह अपन सदस य द श क व श व क आर थ क स थ त पर नज र रखन क क म करत ह यह अपन सदस य द श क आर थ क
  • प रद श सरक र ह न द ग र थ अक दम ह न द ज नन क स ग त प र म य क ल ए इन क त ब क ल न क स थ Swaramayee और Swaralee क ह न द अन व द प रक श त
  • प ष ठभ म स य क त र ष ट र आर थ क एव स म ज क व क स प ष ठ स य क त र ष ट र आर थ क एव स म ज क व षय व श व क न त म च स य क त र ष ट र - आध क र क ज लस थल
  • आईब एसए श खर सम म लन स त बर 2006 म ब र स ल य म आय ज त क य गय थ उसक ब द अक ट बर 2007 म प र ट र य म द सर आईब एसए श खर सम म लन आय ज त क य
  • क कई भ ग म कई अलग अलग र ज रह भ रत क स वर प भ बदलत रह क त व श व क त र पर भ रत क सम बन ध सद बन रह स मर क सम बन ध क ब त क ज ए त भ रत
  • आश न व त ह उन ह न आग कह यह सम म लन क ष त र क न र म ण करन क ल ए क य गय एक प रय स ह यह शहर म द सर सम म लन ह ग जह त न र ज य सरक र प ज ब
  • इतन ज र पकड क स वभ ष और ह न द भ ष क ल ए म र ग प रशस त ह गय ल कम न य त लक न ह न द क सर क म ध यम स ह न द क प रच र त प रस र त करन क
  • सम म लन म उपस थ त थ श र श र रव श कर, स स थ पक, आर ट ऑफ ल व ग आद च न च न ग र मठ क श र स व म ब ल ग ग धरन थ स व म पर म त म न द, ह द धर म

यूजर्स ने सर्च भी किया:

सममलन, शवक, हनद, वशवहदसममलन, शवदसममलनकहहग, वशवदसममलनकहहग, शवहदसममलन, शवदसममलनकहहआ, शवहनदसममलन, शवकहनदसममलन, वैश्विक हिन्दी सम्मेलन, प्रमुख शिक्षा समिति. वैश्विक हिन्दी सम्मेलन,

...

शब्दकोश

अनुवाद

12 विश्व हिंदी सम्मेलन 2021.

विश्व हिंदी सम्मेलन World Hindi सुगम ज्ञान. वर्धा ने सन् 1975 में की। इस समिति के ही माध्यम से पहली बार नागपुर में 10 12 जनवरी 1975 को विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन का उद्देश्य तात्कालिक दौर में वैश्विक स्तर पर हिंदी की सार्थकता सिद्ध करना था।.


12 विश्व हिंदी सम्मेलन 2019.

मॉरीशस 11 वें विश्व हिंदी सम्मेलन की Jagran Josh. English हिन्दी मिशन अंतरिक्षयान× संचार भू प्रेक्षण नौवहन वैज्ञानिक अन्वेषण परीक्षणात्मकक लघु उपग्रह यह सम्मेलन उन प्रयोक्ताओं पर केंद्रित था जिन्होंने आंकड़ा विश्लेषण की दिशा में अपने दृष्टिकोण तथा उत्कृष्ट वैज्ञानिक मुद्दे पर अपने विचार सी., बेंगलूरु में चतुर्थ चंद्र विज्ञान सम्मेलन एवं चंद्रयान 2 आंकड़ा विश्लेषण कार्यशाला संपन्न फ़रवरी 28, 2016, मंगल के वैश्विक श्वेमतिमा मानचित्र. 12 विश्व हिंदी सम्मेलन कहां हुआ. कांग्रेस वैश्विक निवेशक सम्मेलन पर Navodaya Times. हर साल 10 जनवरी को दुनियाभर में विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। जिसका उद्देश्य वैश्विक स्तर पर हिन्दी के प्रचार ​प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना तथा हिन्दी को अन्तराष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है। इस दिन को विदेशों​.


12वां विश्व हिंदी सम्मेलन कहाँ होगा.

वैश्विक हिंदी सम्मेलन. इसके अनुसार 18 20 अगस्त, 2018 के मध्य 11वें विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन मॉरीशस में किया जाएगा। इस सम्मेलन का मुख्य विषय वैश्विक हिंदी और भारतीय संस्कृति निर्धारित किया गया है। 11वें विश्व हिंदी सम्मेलन में एक विषय. 11वां विश्व हिंदी सम्मेलन 2018. प्रधानमंत्री मोदी ने हैदराबाद में वैश्विक. 1975 के बाद से लगातार विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी भाषा का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन बनकर उभरा है और अब तक कुल 10 हिंदी के वैश्विक संदर्भ में भारत की अस्मिता को हर साल जागृत बनाए रखने वाले विश्व हिन्दी दिवस ने हिन्दी भाषा और. विश्व हिन्दी सम्मेलन 2021. विश्व हिंदी सम्मेलन क्या पिकनिक मनाने की AajTak. सुषमा स्वराज ने इस अवसर पर कहा कि भारत और मॉरीशस के बीच प्रगाढ़ रिश्ते हैं और वैश्विक पटल पर हिन्दी को आगे बढ़ाने में मॉरीशस का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इसका उदाहरण है कि वर्ष 1976 और 1993 में विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन मॉरीशस में.





विश्व हिंदी सम्मेलन की कैसे हुई थी शुरुआत, जानिए.

नागपुर में 10 जनवरी 1975 को पहली बार विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन किया गया था। यह हिन्दी के प्रचार प्रसाऔर वैश्विक स्वीकार्यता का ही परिणाम है कि आज हिन्दी अपनी तमाम प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ते हुए लोकप्रियता. वैश्विक निवेशक सम्मेलन का उद्घाटन करने मोदी. मॉरीशस में हो रहे 11वें विश्व हिंदी सम्मेलन के मौके पर देश में यह सवाल जरूर उठ रहा है, कि जिस उद्देश्य. अगर इतने बड़े समुदाय की भाषा को उसका वैश्विक स्तर पर आधिकारिक महत्व नहीं मिल पा रहा है, तो हमें सोचना होगा कि आखिर हमारे. विश्व हिन्दी सम्मेलन आत्मीय आकर्षक वेबदुनिया. विराट् सम्मेलनों से देश या. भाषा की राष्ट्रीय ​अन्तर्राष्ट्रीय पहचान का दायरा विस्तृत और मजबूत होता है। विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी को अपनी पहचान मजबूत करने के लिए न सिर्फ. वैश्विक मंच प्रदान करता है बल्कि भारतीयता का प्रसार भी करता.


विश्व हिंदी सम्मेलन पर केंद्रित प्रेरणा पत्रिका.

मारीशस में 18 से 20 अगस्त तक चले विश्व हिन्दी सम्मेलन में कुल 101 प्रस्तावों को मंजूर किया गया। इन्हें पूरा करने को सभी 40 इंस्टीट्यूट ऑफ डायरेक्टर्स इंडिया ने 14 दिसंबर को सिंगापुर में दूसरा वैश्विक सम्मेलन किया। इसमें नवाचार के लिए. बाल अधिकार सम्मेलन विकासपीडिया. इस वर्ष सम्मेलन का मूल विषय होगा भाषा की अस्मिता और हिन्दी का वैश्‍विक संदर्भ। महात्मा गांधी की भाषाई दृष्टि, हिन्दी और आधुनिक प्रौद्योगिकी, हिंदी के प्रचार में भारतीय महाकाव्यों की भूमिका, विदेशी विद्वानों का. अनटाइटल्ड Shodhganga. कुछ लोग इस बात पर प्रसन्न होते देखे जाते हैं कि हिंदी वैश्विक परिदृश्य में अपनी जगह बना रही है। आज जब भाषाएं खत्म हो रही अब तक हुए ग्यारह विश्व हिंदी सम्मेलनों में से तीन मॉरीशस में आयोजित हुए हैं। हिंदी के प्रयोग को लेकर. नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन: सीतारमण ने 102. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने पाकिस्तान में बादशाही मस्जिद, सिखों के धार्मिक स्थल गुरुद्वारा दरबार साहिब और करतारपुर कॉरिडोर गलियारे की यात्रा को एक भावुक लम्हा बताते हुए कहा है कि आस्थाओं के बीच संवाद होते देखना. PM Modi inaugurate two day Himachal Pradesh global investors. हिन्दी सेंटर ने 10 सितम्बर को मुंबई में आयोजित वैश्विक हिंदी सम्मेलन में रिसर्च और मीडिया सहयोगी के तौपर भाग लिया। सम्मेलन के दौरान हिंदी भाषा के चहुंमुखी विकास और प्रसार के संदर्भ में गंभीर विचार विमर्श किया गया। देश विदेश से.


वैश्विक सम्मेलन न्यूज़ इन हिंदी, वैश्विक Hindustan.

वैश्विक परिदृश्य में अपने स्वयं के अनुभवो की चर्चा करूं तो यूनाईटेड अरब अमीरात में दुबई, अबूधाबी मेरा बारबार जाना 1975 में नागपुर में पहला विश्व हिन्दी सम्मेलन राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के सहयोग से संपन्न हुआ था,. Hindi News: कल से शुरू हो रहा है विश्व हिन्दी सम्मेलन. पर्यावरण सुरक्षा के लिए वैश्विक प्रयासों के आह्वान के साथ संयुक्त राष्ट्र जलवायु सम्मेलन का उद्घाटन. इस मौके पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पर्यावरण संरक्षण के लिए वैश्विक आंदोलन चलाने की मांग की. विश्व हिंदी सम्मेलन का हासिल Amar Ujala. 9वें विश्व हिन्दी सम्मेलन में हिन्दी के प्राचीन आधुनिक पहलुओं से संबंधित परम्परागत और समसामयिक दोनों प्रकार के विषयों पर चर्चाएं हुईं। सम्मेलन का विषय भाषा की अस्मिता और हिन्दी का वैश्विक संदर्भ रखा गया। सम्मेलन में नौ शैक्षिक. कृषि सांख्यिकी आईकास Vlll पर आठवें ICAR. वर्ष 2007 में इंडोनेशिया के बाली द्वीप में जलवायु परिवर्तन एवं वैश्विक तापन के सम्बन्ध में एक सम्मेलन आयोजित किया गया जिसमें 180 से अधिक देशों ने ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने तथा क्योटो प्रोटोकॉल की समय रेखा.


वैश्विक पटल पर हिन्दी के प्रसार में विश्व हिन्दी.

11 वें विश्व हिंदी सम्मेलन का विषय वैश्विक हिंदी और भारतीय संस्कार रहेगा. विश्व हिन्दी सम्मेलन हिन्दी भाषा का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन है, जिसमें विश्व भर से हिन्दी विद्वान, साहित्यकार, पत्रकार, भाषा. शनिवार से शुरू होगा नौंवा विश्व हिन्दी सम्मेलन. विकलांगता शिखर सम्मेलन 2019 Disability Summit, 2019 के द्वितीय संस्करण का आयोजन 6 8 जून, 2019 के बीच अर्जेंटीना गणराज्य के ब्यूनस आयर्स शहर वर्ष 2018 में प्रथम वैश्विक विकलांगता शिखर सम्मेलन का आयोजन लंदन में किया गया था।. World Hindi Day 2020 वैश्विक पटल पर गूंज रही हिंदी. इस संस्मरण में मॉरीशस में हुए ग्यारहवें विश्व हिंदी सम्मेलन पर उनकी टिप्पणियां बेहद दिलचस्प हैंः. सम्मेलन का मुख्य विषय हिंदी विश्व और भारतीय संस्कृति और उद्देश्य वैश्विक स्तर पर हिंदी भाषा की पहुंच बढ़ाना का रहा.


अनटाइटल्ड VNIT, Nagpur.

इस वैश्विक सम्मेलन को उच्च शिक्षा पर विवेचन नेतृत्व फोरम में अपना एक महत्वपूर्ण स्थान हासिल करने के लिए किया जा रहा है।इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए हमारे पास भारत और विदेश के हितधारकों का एक बड़ा और विविधतापूर्ण. विश्व हिन्दी दिवस का हिन्दी के वैश्विक विस्तार. अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन एवं चिंतन शिविर में अर्पण विभागीय कामकाज हिन्दी में ही करने हेतु प्रयास करें। को प्रथम इससे पहले वर्ष 1975 में नागपुर में प्रथम तथा 1983 में नई विचार विमर्श करना था कि तत्कालीन वैश्विक परिस्थिति में.


उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने आबूरोड में वैश्विक.

इस सम्मेलन की थीम वैश्विक हिंदी और भारतीय संस्कृति है। इस सम्मेलन का आयोजन भारत सरकार के विदेश मंत्रालय द्वारा मॉरिशस सरकार के साथ मिलकर किया जा रहा है। यह सम्मेलन स्वामी विवेकानंद अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र में किया जा रहा है. सम्मेलन का केन्द्रीय विषय नई दुनिया Hansraj College. सम्मेलन का उद्घाटन विदेश राज्य मंत्री प्रनीत कौऔर साउथ अफ्रीका सरकार के एक मंत्री मिलकर करेंगे। इस बार के सम्मेलन का विषय भाषा की अस्मिता और हिन्दी का वैश्विक संदर्भ है। इसमें 9 शैक्षिक सत्र होंगे जिनके मुख्य विषयों.





भारत की भाषा हिन्दी, वैश्विक पटल पर हो रही है मजबूत.

प्रधानमंत्री मोदी ने हैदराबाद में वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन 2017 का उद्घाटन किया वैश्विक उद्यमिता सम्मेलन ​2017 ने वैश्विक उद्यमी पारिस्थितिकी तंत्र को बढ़ावा देने के लिए प्रमुख निवेशकों, उद्यमियों, शिक्षाविदों और. भावी उर्जा वैश्विक सम्मेलन आज से अबु धाबी में. इस शुरूआत का मकसद हिन्दी को विश्व पटल पर स्थापित करना था। विश्व में हिन्दी का विकास करने और एक अंतरराष्ट्रीय भाषा के तौपर इसे प्रचारित प्रसारित करने के उद्देश्य से विश्व हिन्दी सम्मेलनों की शुरुआत की गई थी। विदेशों में. अनटाइटल्ड राजभाषा विभाग. विश्व हिन्दी सम्मेलन, मॉरीशस में 18 20 अगस्त को. नयी दिल्ली 10 अप्रैल वार्ता ग्यारहवां विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन 18 से 20 अगस्त के बीच मॉरिशस की राजधानी पोर्ट लुइस में आयोजित किया जाएगा जिसकी थीम वैश्विक हिन्दी,.


11वां विश्व हिंदी सम्मेलन हुआ संपन्न DD News.

भाेपाल में होने वाले 10वें विश्व हिंदी सम्मेलन पर सबकी नजर है यह हिंदी साहित्य के बजाय भाषा पर केंद्रित है. नौवां विश्व हिन्दी सम्मेलन Web Dunia Malayalam. World Hindi Day 2020 पहला विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन 10 जनवरी 1976 को नागपुर में किया गया था। इसमें 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने शिरकत की थी।. न्यू यॉर्क में जलवायु सम्मेलन, मोदी ने किया DW. दिया सबका धन्यवाद, मॉरीशस के मार्गदर्शक मंत्री अनिरुद्द जगन्नाथ ने की हिंदी को वैश्विक भाषा का दर्जा देने पहली बार विश्व हिन्दी सम्मेलन में केवल हिन्दी भाषा नहीं, बल्कि हिन्दी भाषा और उससे जुड़ी संस्कृति पर बात हुई।. 11वां विश्व हिन्दी सम्मेलन मीडिया लांच Edristi. भू राजनीति और भू अर्थनीति पर भारत का महत्‍वपूर्ण वैश्विक सम्‍मेलन रायसीना संवाद आज शाम नई दिल्‍ली में शुरू हो गया। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने उद्घाटन सत्र में हिस्‍सा लिया। न्‍यूजीलैंड की पूर्व प्रधानमंत्री हेलन क्‍लार्क,.


वैश्विक आलू सम्मेलन 2020 में माननीय Kailash.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सम्मेलन के लिए अपने संदेश में कहा कि विश्व हिन्दी सम्मेलनों की परंपरा को एक वैश्विक पहचान और गति मिली है। इन सम्मेलनों ने हमेशा ही प्रख्यात विद्वानों तथा हिन्दी के समर्थकों को अपनी ओर. विश्व हिन्दी दिवस: नागपुर में पहली बार 10 जनवरी को. सांख्यिकी और कृषि के क्षेत्र में भारतीय विशेषज्ञता को उजागर और साझा करने का अवसर प्रदान करते हुए भारत पहली बार इस सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। यह आयोजन वैश्विक विशेषज्ञों के साथ बातचीत करने और अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिक विकास का. हिंदी की वैश्विक उपस्थिति Jansatta. उन्होंने दोहराया कि सम्मेलन वैश्विक पर्यावरण जो प्रदूषण के और संचय के मामले में महत्वपूर्ण बदलाव आया है हाल ही में नवाचारों, चिंताओं और व्यावहारिक चुनौतियों और समाधान पर्यावरण प्रदूषण के क्षेत्र में अपनाया चर्चा करने के लिए के. जलवायु परिवर्तन से सम्बन्धित समझौते एवं सम्मेलन. दक्षिण अफ्रीका की एक स्थानीय स्वयंसेवी हिन्दी संस्था ​हिन्दी शिक्षा संघ इस सम्मेलन के आयोजन में सहयोगी संस्था है। सम्मेलन का मुख्य विषय भाषा की अस्मिता और हिन्दी का वैश्विक संदर्भ है। सम्मेलन के कार्यक्रम में 9.


...
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →